भोपाल गैंगरेप: हम तो गला दबा मरा समझ भाग गए थे-चौथा आरोपी

0 87
भोपाल।कोचिंग से लौट रही छात्रा से ज्यादती के चौथे आरोपी राजेश उर्फ रमेश ने पुलिस के सामने बड़ा खुलासा किया है। पूछताछ में उसने बताया कि 31 अक्टूबर की रात हबीबगंज स्टेशन के पास नाले के नीचे गोलू और अमर उर्फ गुल्टू ने उसे छात्रा के बिना कपड़ों के होने की जानकारी दी थी। वह अपने साथी राजेश के साथ वहां पहुंच गया। दुष्कर्म के बाद हमने उसका गला दबाया, लगा कि वो मर गई है। इसके बाद वे वहां से भाग गए। छात्रा ने भी अपने बयान में कहा था कि आरोपी उसकी हत्या करने की बात आपस में कर रहे थे।
पुलिस आज चौथे आरोपी को लेगी रिमांड में
– इधर, एसआईटी ने छह दिन के बाद चौथे आरोपी रमेश उर्फ सुरेश उर्फ राजू को गिरफ्तार कर लिया है। वह मूलरूप से नरसिंगपुर का रहने वाला है। उस पर एसपी रेल ने 10 हजार का इनाम घोषित किया था। उसे कोलार से गिरफ्तार लिया गया है। पुलिस रमेश उर्फ सुरेश के साथ ही गोलू बिहारी को आज कोर्ट में पेश करेगी। गोलू 7 नवंबर तक पुलिस रिमांड में था। जीआरपी पुलिस इन दोनों आरोपियों की रिमांड बढ़ाए जाने को लेकर कोर्ट में अर्जी दाखिल करेगी।
स्टूडेंट्स का सरकार को खुला पत्र
जबकि राजधानी गैंग रेप मामले में चार लोगों की दरिंदगी का शिकार हुई छात्रा ने पहले ही पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठा चुकी हैं। इसके साथ ही भोपाल में विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं। सोमवार को शहरभर की कोचिंग संस्थानों के छात्र-छात्राओं ने रैली निकाली और बोर्ड ऑफिस चौराहे पर कैंडिल मार्च निकालकर विरोध जताया। उन्होंने सरकार को खुला पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग की थी।
IPS बनकर सिस्टम सुधारना चाहती है विक्टिम
– विक्टिम के साहस की प्रशंसा हर कोई कर रहा है। घटना के दूसरे दिन आरोपियों को पकड़ने के लिए वह खुद अपने पिता एएसआई के साथ पूरा बाइक पर सवार होकर घूमती रहीं। आईजी अनुराधा शंकर भी छात्रा के साहस की प्रशंसा कर चुकी हैं। इस दौरान पीड़िता ने बताया कि वह दुष्कर्म करने वाले राक्षसों से लड़ेगी और उन्हें सजा दिलवाकर ही रहेगी। उधर, शासन ने पीड़िता को तीन लाख रुपये की आर्थिक मदद और शिक्षा में पूरा सहयोग करने की घोषणा की है। 31 अक्टूबर को हबीबगंज थाना इलाके में रेलवे लाइन के पास कोचिंग क्लास से लौट रही 19 वर्षीय छात्रा को चार बदमाशों ने पहले अगवा किया और बाद में रेलवे लाइन की पुलिया के नीचे ले जाकर उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया।
आरोपियों ने की थी उसे मारने की कोशिश
पीड़िता बीएससी की छात्रा है और सिविल सर्विस परीक्षा की कोचिंग ले रही है। रेप के बाद बदमाशों ने लड़की का गला दबाकर मारने की कोशिश भी की। उसके बेहोश हो जाने के बाद चारों बदमाश उसे मरा समझकर वहां से फरार हो गए। बाद में होश आने पर पीड़िता किसी तरह अपने घर पहुंची और घटना के बारे में अपने परिजनों को बताया। पुलिस से कोई मदद मिलती न देख पीड़िता अपने माता-पिता के साथ उन चार दरिंदों में से एक को खोजकर पुलिस के हवाले कर दिया। वहीं, मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में आईजी भोपाल रेंज, एसपी रेल, सीएसपी एमपीनगर को उनके पदों से हटाकर पीएचक्यू अटैच किया गया। जबकि तीन टीआई और दो एसआई को सस्पेंड कर दिया गया।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Bitnami