हिमाचल चुनाव: जिनकी दुकानें बंद हो गईं, वे मुझे कोसेंगे नहीं तो क्या करेंगे- PM मोदी

0 74

शिमला. नरेंद्र मोदी ने रविवार को हिमाचल प्रदेश के ऊना से कैम्पेन की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि हिमाचल में भ्रष्टाचार के खिलाफ आंधी चल रही है। लेकिन चुनाव में मजा नहीं आ रहा। कांग्रेस मैदान से भाग गई है। नोटबंदी पर प्रधानमंत्री ने कहा, “पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने नोटबंदी से इनकार कर दिया था। जब जरूरत थी, तब इंदिरा गांधी ये काम करतीं तो मुझे इतना बड़ा कदम उठाने की जरूरत नहीं पड़ती।” मोदी ने पालमपुर और कुल्लू में भी जनसभाओं को संबोधित किया। बता दें कि हिमाचल में 9 नवंबर को एक फेज में चुनाव है। नतीजे 18 दिसंबर को आएंगे।

20 साल से चुनावों में हिमाचल का सीधा संबंध
– मोदी ने ऊना में कहा, “चुनाव आखिरी दौर में है। यह मेरा तीसरा दिवस है, जब हिमाचल की धरती पर आप सब के दर्शन करने का आपका आशीर्वाद पाने का मौका मिला है। भाइयों बहनों चुनाव हमने बहुत देखे हैं। चुनाव लड़े हैं और लड़वाए भी हैं। हिमाचल के चुनावों से भी जुड़ा रहा हूं। शायद ही कोई ऐसी तहसील हो जहां के चुनावों में मैं नहीं गया होऊं।”
– “उस वक्त एक वॉलंटियर के नाते आप लोगों की तरह नीचे बैठकर, सभा अच्छे से हो, माइक ठीक से चले ये सब काम मैं देखता था। बाद में गुजरात का मुख्यमंत्री बना तो चुनाव सभाओं में आने का अवसर मिला।”
– “2014 में लोक सभा चुनाव प्रचार के लिए आने का अवसर मिला, अब विधानसभा चुनाव के प्रचार के लिए। 20 साल में एक भी चुनाव ऐसा नहीं गया, जब हिमाचल के किसी चुनाव से मेरा सीधा संबंध नहीं रहा।”
– “यह भी है कि इन बीस साल में मैंने हिमाचल में ऐसा चुनाव नहीं देखा, जैसा इस बार है। साफ पता चल रहा है कि हवा का रुख किस तरफ है। इस बार देख रहा हूं कि हवा का रुख जानने पहचानने की जरूरत नहीं, यहां तो आंधी चल रही है।”
हिमाचल में जनता चुनाव लड़ रही है
– मोदी ने कहा, “भ्रष्टाचार के खिलाफ यहां जनता का गुस्सा फूट पड़ा है। इस बार 18 दिसंबर को हम सब को कहना पड़ेगा, हिमाचल का चुनाव न बीजेपी का नेता लड़ता है न ही कार्यकर्ता और न ही विधायक उम्मीदवार लड़ता है, यहां का चुनाव यहां की जनता लड़ती है।”
– “लोकतंत्र में जय पराजय होते रहते हैं। यह लोकतंत्र का उत्सव है। मुझे इस चुनाव में एक बात की पीड़ा बनी रहेगी। मजा नहीं आ रहा है। क्योंकि कांग्रेस पार्टी मैदान छोड़कर भाग गई।”
– “देश के एक पूर्व प्रधानमंत्री कहते थे कि दिल्ली से एक रुपया चलता है लेकिन जनता के पास 15 पैसे पहुंचते हैं। आखिर वो कौन सा पंजा था जो ऐसा करता था।”

आधार से सिलेंडर को जोड़ा
– मोदी ने कहा, “हमने आधार के साथ सिलेंडर को जोड़ा और देश की करोड़ों रुपए की चोरी होने से बचा दी।”
– “कई जगह पर तो ऐसा नजर आया कि स्कूल में टीचर की तनख्वाह जा रही है, लेकिन न तो टीचर है और न ही इस नाम का कोई व्यक्ति, जब आधार से जोड़ना शुरू किया तो पता चला कि जो पैदा ही नहीं हुए थे तनख्वाह ले रहे थे। लाखों नाम ऐसे कि जो बेटी जन्मी नहीं वह विधवा हो गई और दिल्ली से सब्सिडी का पैसा जा रहा है।”
– “आपको प्रसन्नता होगा कि आप हिमाचल के लोगों ने लोकसभा की सीटें जिताकर मोदी को प्रधानमंत्री बनाया। लेकिन काम दम से करना है।”
– देश 57 हजार करोड़ रुपए जो बिचौलिए खा जाते थे, मोदी ने यह बंद कर दिया और यह रुपए देश की गरीब जनता तक पहुंचने लगे। लोगों को लगता है कि मोदी इतना भाग-दौड़ करता है, मेहनत करता है, विपक्षी दल हर मामले में मोदी को जिम्मेदार ठहराते हैं।”
– “घर में बिजली नहीं आई मोदी जिम्मेदार, बारिश नहीं हुई मोदी जिम्मेदार। इसका सीधा-सीधा कारण है कि यह 57 हजार करोड़ रुपए जिनकी जेब में जाता था, उनकी दुकान बंद हो गई तो वह मोदी को कोसेगा नहीं तो क्या करेगा।”

देश का हर नागरिक मेहनत की कमाई चाहता है
– मोदी ने कहा, “भाइयों बहनों सवा सौ करोड़ देशवासी आजादी के 70 साल हो गए कब तक इंतजार करेंगे। पीने का पानी मिले, बच्चों को अच्छी पढ़ाई मिले, युवाओं को कमाई हो, बुजुर्गों को दवाई हो।”
– “हिंदुस्तान का कोई नागरिक नहीं कहता मेरे घर में कार रख दे, मेरी छत सोने की बना दे, वह बस अपने मेहनत की कमाई चाहता है। हम उनकी आकांक्षाओं आशाओं को पूरा करने की कोशिश करते हैं।”
– “आपको याद है कि ऊना हमीरपुर रेल लाइन, याद नहीं है न? यह सरकार आने के बाद पुरानी घोषणाएं हुईं, लेकिन एक पैसा बजट नहीं डालेगा नहीं, उसके नाम पर चुनाव लड़े। सरकारें आईं और चली गईं। मैंने देखा कि बातें तो बहुत हुई कुछ नहीं हुआ। मैंने यह काम शुरू किया। हिमाचल में अगर हमें टूरिज्म को बनाना है तो हिमाचल को रेल कनेक्टिविटी, एयर कनेक्टिविटी रोड कनेक्टिविटी भारत सरकार जितना कर सकती है उतना कर रही है।”
– “टूरिज्म बढ़ता है तो रोजगार बढ़ता है, गरीब की कमाई होती है। हिमाचल में जब धूमल जी की सरकार थी और दिल्ली में अटल जी की सरकार थी तब टूरिज्म को इतना बढ़ावा दिया कि हिमाचल टूरिज्म डेस्टिनेशन में टॉप पर आ गया था। एक बार फिर ऐसा मौका आया है। दिल्ली में बीजेपी की सरकार और हिमाचल में भी बीजेपी की सरकार बनाकर एक नई ऊंचाई पर ले जाने का तैयार है।”

राहुल गांधी अभी तक कैम्पेन के लिए नहीं पहुंचे
– हिमाचल में चुनाव की तारीख के एलान के बाद राहुल गांधी ने अभी तक राज्य में एक भी रैली नहीं की है। अब मतदान से तीन दिन पहले उनका हिमाचल आने का प्रोग्राम बन रहा है। राहुल 6 नवंबर को 3 रैलियां करेंगे। उनकी चुनावी रैली नाहन के पावंटा, चंबा और कांगड़ा के नगरोटा में होंगी।
हिमाचल इलेक्शन का शेड्यूल
वोटिंग: 9 नवंबर
नतीजे: 18 दिसंबर
कुल सीटें: 68
अब तक राज्य में राजपूत और ब्राह्मण कम्युनिटी से ही बने हैं सीएम
– प्रदेश में 35% राजपूत हैं। इसके बाद ब्राह्मण कम्युनिटी की 19 से 20% वोट हैं। प्रदेश में अब तक पांच सीएम राजपूत बने। सिर्फ शांताकुमार ही ब्राह्मण कम्युनिटी के सीएम बने।
– बीजेपी ने दो बार सीएम रह चुके प्रेम कुमार धूमल को सीएम कैंडिडेट बनाया है। वहीं, इस चुनाव में कांग्रेस वीरभद्र सिंह के चेहरे पर चुनाव लड़ रही है। दोनों पांचवीं बार सीएम के तौर पर आमने-सामने हैं। इससे पहले 1998, 2003, 2007 और 2012 में ये दोनों अपनी-अपनी पार्टी से मैदान में थे।
हिमाचल में 27 साल में 60 से ज्यादा सीटें किसी पार्टी को नहीं मिलीं

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Bitnami