धनतेरस आज : आज खरीददारी का शुभ योग, करें जी भर खरीदारी

0 171
धन का मतलब समृद्धि और तेरस का मतलब तेरह, यानी धन को तेरह गुणा करना
पटना : आज धनतेरस के अवसर पर आप सर्वार्थ सिद्धि के साथ धन लाभ योग के साथ सुबह सात बजे से शाम सात बजे के बाद तक जी भर कर खरीददारी कीजिये. धनतेरस कार्तिककृष्ण पक्ष त्रयोदशी को दोनों योग का एक साथ मिलन हो रहा है, इस कारण आपके लिए खरीददारी का शुभ समय लगातार दिन भर है.
धन का मतलब समृद्धि और तेरस का मतलब तेरहवां. धनतेरस यानी अपने धन को तेरह गुणा बनाने और उसमें वृद्धि करने का दिन. कारोबारियों के साथ ही आमलोगों के लिए धनतेरस का खास महत्व होता है क्योंकि  इस दिन लक्ष्मी पूजा से समृद्धि, खुशियां और सफलता मिलती है. साथ ही सभी के लिए इस पूजा का खास महत्व होता है. दिवाली से पहले धनतेरस पर पूजा का विशेष महत्व होता है और इस दिन धन और  आरोग्य के लिए भगवान धनवंतरी पूजे जाते हैं. इस दिन कुबेर की भी पूजा की  जाती है.
इसी दिन भगवान धनवंतरी का जन्‍म हुआ था जो कि समुंद्र मंथन के  दौरान अपने साथ अमृत का कलश और आयुर्वेद लेकर प्रकट हुए थे और इसी कारण से  भगवान धनवंतरी को औषधि का जनक भी कहा जाता है. पं श्रीपति त्रिपाठी के मुताबिक धनतेरस के दिन सोने-चांदी के बर्तन खरीदना भी शुभ माना जाता है. इस  दिन धातु खरीदना भी बेहद शुभ माना जाता है. भगवान धन्वंतरि की पूजा करने से किस्मत चमक जाती है. खरीददारी से महालक्ष्मी का घर में शुभागमन होगा.
किस वक्त क्या करें खरीदारी और कब है शुभ मुहूर्त?
– काल- सुबह 7.33 बजे तक दवा और खाद्यान्न.
– शुभ-सुबह 9.13 बजे तक वाहन, मशीन, कपड़ा, शेयर और घरेलू सामान.
– चर-14.12 बजे तक गाड़ी, गतिमान वस्तु और गैजेट.
– लाभ-15.51 बजे तक लाभ कमाने वाली मशीन, औजार, कंप्यूटर और शेयर.
– अमृत-17.31 बजे तक
जेवर, बर्तन, खिलौना, कपड़ा और स्टेशनरी.
– काल-19.11 बजे के बाद तक घरेलू सामान, खाद्यान्न और दवा.
कलश लेकर प्रकट हुए थे धन्वंतरि, इसी कारण खरीदे जाते हैं बर्तन
कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन ही धन्वंतरि का जन्म हुआ था इसलिए इस तिथि को धनतेरस के नाम से जाना जाता है. धन्वन्तरि जब प्रकट हुए थे तो उनके हाथों में अमृत से भरा कलश था. पं श्रीपति त्रिपाठी कहते हैं कि हिंदू धर्म में पूजा अर्चना के नियमों को कठोरता पूर्वक पालन करने की बाध्यता नहीं है.
भगवान धन्वंतरि चूंकि कलश लेकर प्रकट हुए थे इसलिए ही इस अवसर पर बर्तन खरीदने की परंपरा है. कहीं-कहीं लोकमान्यता के अनुसार यह भी कहा जाता है कि इस दिन धन (वस्तु) खरीदने से उसमें 13 गुणा वृद्धि होती है. यह तेरह या तेरस से जुड़ा है. धनतेरस के दिन चांदी खरीदने की भी प्रथा है. इसके पीछे यह कारण माना जाता है कि यह चन्द्रमा का प्रतीक है जो शीतलता प्रदान करता है और मन में संतोष रूपी धन का वास होता है.
धन्वंतरि से की जाती है सेहत की कामना
भगवान धन्वन्तरि जो चिकित्सा के देवता भी हैं, उनसे स्वास्थ्य और सेहत की कामना की जाती है. जिस प्रकार देवी लक्ष्मी सागर मंथन से उत्पन्न हुई थीं, उसी प्रकार भगवान धन्वन्तरि भी अमृत कलश के साथ सागर मंथन से उत्पन्न हुए थे. इस अवसर पर धनिया के बीज खरीद कर भी लोग घर में रखते हैं.
धनतेरस की पूर्व संध्या पर ही बाजार में उमड़ी भीड़
पटना : शाम के छह बजे हैं. धनतेरस की पूर्व संध्या पर प्रदेश का सबसे बड़ा इलेक्ट्रॉनिक मार्केट बाकरगंज जाने के सभी रास्ते  पूरी तरह जाम हैं. पैदल वाले तो फिर भी कुछ ठिठक कर आगे बढ़ रहे हैं, लेकिन वाहन सवार को कदम-कदम पर ठहरने की लाचारी है.
मौका एक दिन पहले धनतेरस के लिए पसंदीदा सामान की बुकिंग कराने का है, प्रदेश के दूर-दराज वाले हिस्से में दीपावली का सामान ले जाने का और घरों की बची-खुची साज-सज्जा को पूरा करने का है. शाम पांच बजे के पहले से ही यह भीड़ राजधानी के फ्रेजर रोड, एक्जीबिशन रोड, न्यू डाकबंगला रोड के साथ ही जंक्शन के पास  स्थित चांदनी मार्केट में भी है.
फ्रेजर और डाकबंगला रोड में इलेक्ट्रॉनिक आयटम की सभी प्रसिद्ध दुकानें हैं, जहां लोग अपनी खरीदारी आज ही सुनिश्चित कर रहे हैं. प्रसिद्ध दुकान संगीता में फ्रिज की बुकिंग करा रहे केशरीनगर के अमित कुमार ने बताया कि पंडित जी ने कहा था कि सुबह में दस बजे के पहले इलेक्ट्रॉनिक आयटम खरीद लेने का सही वक्त है.
इसके मद्देनजर हम आज ही बुकिंग करा ले रहे हैं ताकि कल सुबह उठने का झंझट खत्म हो जाये और सही वक्त पर डिलिवरी हो जाये. न्यू डाकबंगला की फेमस दुकान आदित्य विजन में नये टीवी सेट पर ग्राहकों का रुझान ज्यादा है. ओएलइडी टीवी का नया वर्जन पसंद कर रहे एजी कॉलोनी के सुस्मित कुमार ने बताया कि धनतेरस के धक्के से बचने के लिए आज बुकिंग करा रहे हैं.
सड़क पर सजीं दुकानें, पांच मिनट की दूरी 15 मिनट में
धनतेरस के कारण दुकान अंदर से निकल कर सड़क पर आ गयी है. डाकबंगला चौराहे से चांदनी मार्केट पहुंचने में  पंद्रह मिनट का वक्त लगा़. चांदनी मार्केट के जीत इलेक्ट्रॉनिक्स में भीड़ खचाखच भरी हुई है.
कोई इलेक्ट्रॉनिक दीया की कीमत तो कोई लड़ियों का होलसेल रेट जानने में जुटा है. संचालक सरदार जीत सिंह ने बताया कि इस बार भी हमने चाइनीज लाइट नहीं मंगवायी है. दिल्ली से लाइट की नयी रेंज आयी है, जो खूब पसंद की जा रही है. सौ रुपये से शुरू ये लाइटें खासे पसंद किये जा रहे हैं.
मौर्या लोक और बेली रोड बना सजावटी सामान का बड़ा ठिकाना
इस बीच मौर्य लोक और बेली रोड सजावटी सामान खरीदने का बड़ा ठिकाना बना हुआ था. बेली रोड पर विमेंस कॉलेज के बाउंड्री की शुरुआत से लेकर नये नियोजन भवन तक सजावटी सामान का बाजार ग्राहकों को खूब लुभा रहे हैं.
यहां मोल-तोल के कारण भी ग्राहकों को संतुष्टि मिल रही है. यही कारण है कि यहां भीड़ अधिक थी, जो राजधानी की पूरी ट्रैफिक व्यवस्था को ध्वस्त कर रही थी. बोरिंग रोड में हाईकोर्ट से लेकर बोरिंग रोड चौराहे तक लक्ष्मी गणेश की मूर्तियों के साथ धनतेरस-दीवाली की पूजा सामग्रियों को खरीदने के लिए ग्राहक कतारबद्ध थे.
खरीदारी को आये लोग, हर तरफ लगा जाम
सोमवार को धनतेरस से एक दिन पहले खरीदारी के लिए इतने लोग सड़कों पर निकल पड़े कि हर ओर जाम लगने लगा. फुटपाथ और सड़क पर दुकान लग जाने के कारण कई जगह सड़कें संकरी हो गई थी और वहां से वाहनों का गुजरना मुश्किल हो गया. पटना वीमेंस कॉलेज गेट के पास से लेकर इनकम टैक्स गोलंबर के पास स्थित पेट्रोल पंप तक फुटपाथ पर एक लाइन में 25-30 दुकानें सजी थीं और उन पर सैंकड़ों ग्राहक खरीदारी कर रहे थे.
सामने की अाधी सड़क वहां आने वाले लोगों के वाहनों से पटा था और जगह कम पड़ जाने के कारण वाहनों को गुजरने में परेशानी हो रही थी. उनकी लंबी कतार लग गई थी और रूक रूक कर वाहन गुजर रहे थे. आयकर गोलंबर पर बेली रोड, वीरचंद पटेल पथ और डाकबंगला चौराहा तीनों तरफ से भारी संख्या में वाहनों के आने के कारण गोलंबर पार करने मेंं परेशानी हो रही थी और बार बार जाम लग रहा था. वोल्टास गोलंबर के आसपास फुटपाथ और  पार्किंग एरिया में भी समान बेचे जा रहे थे.
खरीदारी के लिए आनेवाले ग्राहक अपने वाहन सड़क किनारे लगा रहे थे, जिससे जाम लग रही थी. एग्जीबिशन रोड में भी कई जगह ऐसी ही स्थिति दिखी. नवनिर्मित फ्लाइओवर के नीचे बनी पार्किंग एरिया में एक लाइन से बेचने के लिए लाये गये टू व्हीलर और फोर व्हीलर लगा दिये गये थे, जिससे लोगों को गाड़ी लगाने  के लिए जगह ही नहीं मिल रही थी . डाकबंग्ला चौराहा, चिड़ैयाटाड़ फ्लाइओवर, राजेंद्र नगर फ्लाइओवर, स्टेशन गोलंबर, स्टेशन रोड, जीपीओ गोलंबर और अशोक राजपथ में भी ऐसी ही भीड़ भाड़ और जाम दिखी. गाड़ियां रेंगती रहीं और ट्रैफिक पुलिस वाले पसीना बहाते रहे.

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com