आरएसएस ने बताया, क्यों शाखाओं में नहीं आती महिलाएं

0 48

 नई दिल्ली:  सुबह जल्दी उठकर शाखा जाना और वहां कठिन व्यायाम करना महिलाओं के लिए सहज नहीं है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारियों ने राहुल गांधी की ओर से संघ में महिलाओं की भागीदारी न होने के आरोप के जवाब में यह बात कही। गुजरात में हाल ही में महिलाओं की एक सभा में राहुल गांधी ने कहा था कि क्या आपने कभी संघ की शाखाओं में शॉर्ट्स पहने हुई महिलाओं को देखा है। इस सवाल के साथ राहुल ने संघ पर महिलाओं की उपेक्षा करने का आरोप लगाया था।

राहुल के बयान पर टिप्पणी करते हुए सीनियर कांग्रेस लीडर मनमोहन वैद्य ने कहा, ‘यह ऐसा ही है कि कोई पुरुष हॉकी के मैच में पहुंच जाए और वहां महिला हॉकी खिलाड़ियों की तलाश करे।’ वैद्य ने कहा कि आरएसएएस शाखाओं पर पुरुषों के साथ काम करता है और उनके जरिए परिवारों से भी जुड़ता है। वैद्य ने स्पष्ट किया कि आरएसएस के अन्य सभी संगठनों में महिलाओं की बराबर की भागीदारी है।

सीनियर आरएसएस लीडर ने इकनॉमिक टाइम्स से बातचीत में कहा कि महिलाओं की भागीदारी पर हम अकसर बात करते हैं। लेकिन, शारीरिक खेलों और शाखाओं की टाइमिंग के चलते महिलाओं के लिए शाखा में शामिल होना संभव नहीं है। ऐसे में महिलाओं की भागीदारी के लिए संघ का आनुषांगिक संगठन राष्ट्र सेविका समिति काम करता है। सेविका समिति की ओर से प्रतिदिन दोपहर में शाखाओं का आयोजन होता है और कुछ स्थानों में सप्ताह में तीन दिन शाखा लगती है।

एक साथ नहीं कठिन खेल नहीं खेल सकते महिला-पुरुष 
एक सीनियर संघ नेता ने कहा, ‘शाखा में खेलों के जरिए राष्ट्र निर्माण का कार्य होता है। इनकी रचना ऐसी है कि शाखाओं में पुरुष और सेविका समिति में महिलाएं की अलग-अलग हिस्सेदारी होती है।’ एक लीडर ने खेलों की जानकारी देते हुए कहा कि शाखा में एक खेल होता है ‘किला किसका है’। यह खेल लगभग हर दिन होता है, जिसे खेलते हुए काफी जोर-आजमाइश की जाती है। यह महिला एवं पुरुष की मिली-जुली शाखा में संभव नहीं है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Bitnami