उत्‍कल एक्‍सप्रेस हादसा: प्राथमिक जांच के बाद रेलवे के चार अधिकारी निलंबित, तीन को भेजा गया छुट्टी पर

0 170

नई दिल्‍ली: यूपी में मुज़फ़्फ़रनग़र के पास खतौली में शनिवार को हुए ट्रेन हादसे पर कार्रवाई की गई है. प्राथमिक जांच के बाद 4 रेलवे अधिकारियों को निलंबित किया गया है. वहीं दिल्ली के डीआरएम और नॉर्दन रेलवे के जीएम आर एन कुलश्रेष्ठ को छुट्टी पर भेज दिया गया है. रेलवे ने कहा कि मंडल रेल प्रबंधक (दिल्ली), मेंबर इंजीनियर (रेलवे बोड) को भी दुर्घटना को लेकर छुट्टी पर भेजा गया. रेलवे के मुताबिक चीफ ट्रैक इंजीनियर, उत्तरी रेलवे का तबादला कर दिया गया है.

विभागीय आरोप-प्रत्‍यारोप के बीच रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने घटना की जांच के आदेश दे दिए थे. इसके साथ ही उन्‍होंने कहा था कि रविवार शाम तक प्रथम दृष्‍टया साक्ष्‍यों के आधार पर इस घटना के लिए जिम्‍मेदार लोगों की पहचान कर ली जाएगी. शनिवार शाम को हुई इस घटना में 21 लोगों की मौत हुई है और 100 से भी ज्‍यादा लोग घायल हुए थे.

रेलवे ट्रैफिक के सदस्‍य मोहम्मद जमशेद ने कहा था, ‘उत्कल एक्सप्रेस के पटरी से उतरने के मामले में रेलवे आयुक्त (सुरक्षा) सोमवार से विस्तृत जांच शुरू करेंगे. दोषी पाये जाने पर अपने कर्मचारियों के खिलाफ हम सख्त कार्रवाई करेंगे.’ उन्‍होंने कहा कि ‘ऐसा लगता है कि कुछ मरम्मत का काम जारी था, जिसके चलते संभवत: उत्कल एक्सप्रेस पटरी से उतरी. रेलवे आयुक्त, सुरक्षा अपनी विस्तृत जांच में यह सुनिश्चित करेंगे कि रेलवे पटरी पर किस प्रकार का मरम्मत का काम चल रहा था.’

NDTV इंडिया की पड़ताल में हादसे के संबंध में परस्‍पर विरोधी बातें निकलकर आ रही हैं. दरअसल स्‍थानीय लोगों के मुताबिक ट्रैक पर काम चल रहा था. ट्रेन आने से पहले मरम्‍मत का काम करने वाले ट्रैक से हट गए. इस पर खतौली स्‍टेशन के सुपरिटेंडेंट राजेंद्र सिंह ने कहा कि हमको किसी ट्रैक रिपेयर की जानकारी नहीं थी. अगर कोई रिपेयर का काम होगा तो वो इंजीनियरिंग विभाग को पता होगा, हमको जानकारी नहीं थी. हमारी ओर से कोई गलती नहीं हुई, कोई सिग्‍नल गलत नहीं दिया गया.’

इसके उलट मुजफ्फरनगर इंजीनियरिंग विभाग का कहना है कि ट्रैक पर निश्चित रूप से काम चल रहा था. स्टेशन को बताया गया था कि ट्रैक असुरक्षित है. Blued जॉइंट की प्लेट क्रैक थी. उसको ठीक करने के लिए 20 मिनट का ब्लॉक मांगा गया था यानी 20 मिनट तक कोई ट्रेन वहां से ना गुज़रे ये मांग की गई थी.

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Bitnami