नीतीश कुमार ने मंत्रिमंडल का विस्तार किया, जेडीयू-भाजपा और लोजपा से 26 नए मंत्रियों ने शपथ ली

0 70

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को अपना मंत्रिमंडल विस्तार किया. राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी ने शनिवार को राजभवन में आयोजित शपथ ग्रहण कार्यक्रम में 26 विधायकों को मंत्री पद और गोपानीयता की शपथ दिलाई. नीतीश मंत्रिमंडल में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) कोटे से 11, जनता दल (यूनाइटेड) से 14 और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) से एक विधायक को जगह दी गई है.
सबसे पहले बिजेंद्र कुमार यादव (जेडीयू) ने मंत्रीपद की शपथ ली, जोकि पिछली सरकार में वित्‍त मंत्री थे. इनके बाद प्रेम कुमार (बीजेपी), राजीव रंजन सिंह (जेडीयू) ने मंत्री पद की शपथ ग्रहण की.

इनके बाद नंद किशोर यादव (बीजेपी), श्रवण कुमार (जेडीयू), रामनारायण मंडल (बीजेपी), जय कुमार सिंह (जेडीयू), कृष्‍णनंदन वर्मा (जेडीयू), प्रमोद कुमार (बीजेपी), महेश्‍वर हजारी (जेडीयू), शैलेश कुमार (जेडीयू), विनोद नारायण झा (बीजेपी), सुरेश शर्मा (बीजेपी), विजय सिन्हा (बीजेपी), कुमारी मंजू वर्मा (जेडीयू), संतोष निराला (जेडीयू), खुर्शीद उर्फ फ‍िरोज अहमद (जेडीयू), राणा रणधीर सिंह (बीजेपी), विनोद कुमार सिंह (बीजेपी), कृष्‍ण कुमार ऋषि (बीजेपी), मदन साहनी (जेडीयू), कपिल देव कामत (जेडीयू), दिनेश चंद्र वर्मा (जेडीयू), रमेश ऋषिदेव, बृजकिशोर बिंद (बीजेपी), पशुपति पारस (लोजपा) ने मंत्री पद की शपथ ली.

भाजपा के पूर्व अध्यक्ष मंगल पांडेय को भी मंत्रिमंडल में शामिल किया जाना था, लेकिन उनके पटना में नहीं रहने के कारण वे शपथ नहीं ले सके. जेडीयू कोटे से बने 14 मंत्रियों में दो नए चेहरे हैं, शेष पुराने मंत्रियों को ही मंत्रिमंडल में जगह दी गई है.

शपथ ग्रहण समारोह में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी सहित राजग के कई नेता उपस्थित रहे.

नीतीश मंत्रिमंडल में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में शामिल राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) और हिंदुतानी अवाम मोर्चा (हम) के नेताओं को जगह नहीं दी गई.

बता दें कि बिहार कैबिनेट में अधिकतम 35 मंत्री हो सकते हैं. उम्मीद की जा रही है कि अगले कैबिनेट विस्तार में बाकी बचे विभागों का बंटवारा किया जाएगा.

गौरतलब है कि नीतीश कुमार ने 26 जुलाई की शाम को बिहार के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देकर महागठबंधन से नाता तोड़ने का ऐलान किया था. इसके अगले दिन नीतीश ने बीजेपी के समर्थन से छठी बार बिहार सीएम पद की शपथ ली. 28 जुलाई यानि शुक्रवार को नीतीश ने 131 विधायकों के समर्थन के साथ बिहार विधानसभा में बहुमत साबित किया.

नीतीश के पक्ष में पड़े थे 131 वोट
शुक्रवार को बिहार विधानसभा में विश्वास मत के दौरान सरकार के पक्ष में 131 वोट पड़े, वहीं ख़िलाफ़ में 108 वोट. विश्वास मत पर बहस के दौरान तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर बीजेपी की गोद में बैठ जाने का आरोप लगाया तो वहीं नीतीश ने कहा कि देश का कोई नेता उनको धर्मनिरपेक्षता का पाठ नहीं पढा सकता है.

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Bitnami