गैंगरेप के दौरान ही चली गई थी छात्रा की जान

गैंगरेप के दौरान ही चली गई थी छात्रा की जान

0 252

शिमला : जिस रेप एंड मर्डर केस ने पूरे हिमाचल को हिलाकर रख दिया है, उस केस में 8 दिन बाद पुलिस ने पहले आरोपी को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने एक प्रैस नोट जारी कर गिरफ्तार किए युवक के बारे में जानकारी दी है। पुलिस ने मुताबिक आरोपी का नाम आशीष चौहान उर्फ आशु है। ये कोटखाई तहसील के शराल गांव का रहने वाला है और इसकी उम्र 29 साल है। गिरफ्तार किए गए आरोपी को गुरुवार के दिन कोर्ट में पेश किया जाएगा। पुलिस ने दावा किया है कि यह गिरफ्तारी साइंटिफिक तरीके से की छानबीन के आधार पर की गई है। सारी कड़ियां जुड़ने के बाद ही युवक को गिरफ्तार किया है।

हिमाचल पुलिस के सामने किए खुलासे में आरोपियों ने बताया कि वारदात के दिन आरोपी राजेंद्र सिंह अपनी गाड़ी में चार दोस्तों के साथ कहीं जा रहा था। इसी दौरान यह दसवीं की छात्रा रास्ते में मिल गई। यह राजेंद्र को जानती थी। गाड़ी रोकने पर छात्रा उसमें बैठ गई। मगर आगे जो हुआ वह रुह कंपा देने वाला था।
आरोपियों ने कबूला कि आगे जाकर उन्होंने जंगल में गाड़ी रोक दी। यहां सामान उतारने के बहाने  गाड़ी से उतर गए। एक दूसरे से बात की कि यही मौका है और ऐसा मौका दोबारा नहीं मिलेगा। वहीं, गाड़ी में बैठी छात्रा इन सबसे अंजान थी। ‌थोड़ी ही देर बाद युवक वापस गाड़ी के पास लौटे।
यहां छात्रा को बाहर उतरने को कहा। वह नहीं उतरी तो जबरदस्ती उसे बाहर घसीट लिया। इससे उसके कपड़े तक फट गए। कुछ पिन और कपड़े के टुकड़े भी वहां गिर गए। आरोपी उसका मुंह दबाए उसे जंगल में ले गए।
यहां कंटीली झा‌ड़ी में उसके कपड़े फाड़कर फेंक दिए। झाड़ियों के घाव तक छात्रा के पीठ पर लग गए। वह चिल्‍लाने की कोशिश करती मगर नशे में धुत्त दरिंदे नहीं माने। छात्रा के शरीर पर तीन जगह दांतों से काटने तक के निशान मिले हैं।
हैवानियत की हदें पार करते हुए इन्होंने बारी बारी इससे गैंगरेप कर डाला। पुलिस के अनुसार आरोपियों ने बताया कि इसी दौरान उन्होंने छात्रा का मुंह दबा रखा था। इससे उसकी मौत हो गई।
पुलिस अंदेशा जता रही है कि छात्रा से मरने के बाद भी रेप किया गया। इसके बाद उसे वहीं नग्न हालत में फेंककर फरार हो गए। वहीं, एक आरोपी जो इनमें शामिल नहीं था लेकिन वह इस घटना के बारे में सब जानता था। पुलिस ने जब उसे पकड़ा तो वह गुमराह करने लगा।
सख्ती के बाद उसने बताया कि छात्रा को उसने वारदात वाले दिन राजेंद्र के साथ देखा था। इसी से पुलिस को लीड मिली। अब पुलिस सभी आरोपियों से पूछताछ कर रही है। बताया जा रहा है कि छात्रा करीब डेढ़ माह पहले ही इस गांव में पढ़ने आई थी। यह अपने मामा के साथ यहां रहती थी।

पुलिस ने दावा किया है कि मामले की जांच जारी है और आने वाले दिनों में और गिरफ्तारियां भी हो सकती हैं। इस सनसनीखेज मामले को सुलझाने के लिए पुलिस ने आईजी स्तर के अधिकारी की अगुवाई में एसआईटी का गठन किया था। आईजी जहूर जैदी को इस जांच टीम की कमान सौंपी गई है। गौर रहे कि शिमला जिला के कोटखाई में 10वीं में पढ़ने वाली नाबालिग लड़की के साथ गैंगरेप के बाद निर्मम हत्या की गई थी जिससे लोगों का गुस्सा भड़क गया था। इस मामले में लोग जगह-जगह प्रदर्शन कर दोषियों को कड़ी सज़ा देने की मांग कर रहे हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Bitnami